नई दिल्लीराज्य

लहर का कहर : लहर चाहे कैसी भी हो उसका असर अंत में “कहर” ही होता है!

एस के शर्मा –

भारत में 2014 से एक व्यक्ति के नाम की लहर जिससे पूरा देश तबाह!

नई दिल्ली/भारत। लहर चाहे कैसी भी हो, जिसकी भी हो, उसका असर अंत में “कहर” ही होता है। कभी समुद्र में उठती है तो गांव और शहर तबाह कर जाती है। कभी हवा भी लहर बनकर आती है तो गरीब का आसियाना उड़ा जाती है। कभी बिमारी के रूप में आती है तो श्मशान घाट भर जाती है। लेकिन भारत में 2014 से एक व्यक्ति के नाम की लहर चल रही है जो पूरे देश को तबाह कर रही है।

इस मोदी लहर ने पहले देश के बैंक साफ किए, फिर देश के औधोग धंधे, इन सबका असर रोजगार पर पड़ा तो युवा घर बैठ गये। इन सबका फायदा लहर रूपी मोदी के मित्रों को मिला ओर वो दुनिया के सबसे बड़े अमीर बनते चले गए। बाकी देश के नागरिक मोदी फोटो छपे थेले में आ गए..5 किलो राशन।

गौ माता को पवित्र बनाकर, माता को ही बिमारी में मरने को छोडने वाली इस धार्मिक लहर ने विदेशी चीतों पर सैकड़ों करोड़ खर्च कर खुद कैमरा लेकर खड़ा हो गया। लहर की काबिलियत केवल मै, मैरे लिए ही तक सीमित रही और सड़कों शहरों के नाम बदलता चला गया। बदला नहीं तो केवल अपना चरित्र। हां बदन के कपड़े दिन में और रात में बदलते रहे।

अहंकार में रावण को भी छोटा करने वाली इस शख्सियत ने खुद को ताकतवर दिखाने के लिए, अपने से ज्यादा ताकतवर लोगों को कानूनी जाल में फंसाकर कैद कर लिया। जुबान अपनी पार्टी के चुनाव चिन्ह कमल के किचड़ में डूबाकर रखने वाले इस महापुरुष ने, न स्त्री को छोड़ा न ही तो अपने से छोटे को।

(Credit Fb S K Sharma)

Tags

redbharat

हर खबर पे नजर, दे सबकी खबर
Back to top button
error: Content is protected !!
Close
Close