राजस्थानराज्य

राजस्थान कांग्रेस : रात 10 बजे अचानक से विधायक दल की बैठक बुलाने के मायने क्या?

देवेंद्र यादव – 

अशोक गहलोत : राष्ट्रीय अध्यक्ष पद स्वीकार है, मगर मुख्यमंत्री की कुर्सी छोड़ना स्वीकार नहीं?

राजस्थान/भारत। देश के नव निर्वाचित उप राष्ट्रपति जगदीप धनखड़ के डिनर के बीच मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने रात्रि को 10:00 बजे अचानक से कांग्रेस के विधायक दल की बैठक बुलाकर राजनीतिक गलियारों और मीडिया में राजनीतिक हलचल मचा दी!

उपराष्ट्रपति जगदीप धनखड़ के सम्मान में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने एक डिनर पार्टी रखी थी जिसमें पक्ष विपक्ष के सभी नेता आए हुए थे! डिनर पार्टी के बीच में ही अशोक गहलोत ने कांग्रेस के विधायक दल की भी रात्रि को 10 बैठक बुलाकर सबको चौंका दिया! विधायक दल की बैठक बुलाने के मायने क्या थे यह अभी एक सस्पेंस है? लेकिन कयास यह लगाया जा रहा है कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत कॉन्ग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष बनने से चिंतित नहीं है, बल्कि गहलोत चिंतित हैं! मुख्यमंत्री की कुर्सी जाने की संभावना से? गहलोत को कांग्रेस का राष्ट्रीय अध्यक्ष पद स्वीकार है मगर मुख्यमंत्री की कुर्सी छोड़ना स्वीकार नहीं है?यदि विगत 15 दिन के राजनीतिक घटनाक्रम पर नजर डालें तो अशोक गहलोत ने मुख्यमंत्री की कुर्सी को बचाने के लिए अनेक प्रयास किए? गहलोत ने अपने मुख्य मंत्री के तीसरे कार्यकाल में अचानक से जितने दौरे प्रदेश के 15 दिन में किए, उतने दौरे उन्होंने 3 साल में नहीं किए? अशोक गहलोत पूर्व चिकित्सा मंत्री गुजरात कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रभारी रघु शर्मा से और स्वायत्त शासन मंत्री शांति धारीवाल से कुशल क्षेम पूछने उनके घर पहुंचे! यही नहीं प्रदेश कांग्रेस कमेटी के नवनियुक्त सदस्यों की बैठक बुलाकर राहुल गांधी को राष्ट्रीय अध्यक्ष बनाने के लिए एक प्रस्ताव भी पारित कराया!

सवाल उठता है कि अशोक गहलोत कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष बनने के बाद क्या प्रदेश के मुख्यमंत्री रहेंगे? और यदि गहलोत मुख्यमंत्री नहीं रहे तो, ऐसे में राजस्थान का नया मुख्यमंत्री कौन होगा? क्या राहुल गांधी की पसंद सचिन पायलट राजस्थान के मुख्यमंत्री होंगे या फिर अशोक गहलोत की पसंद का कोई नेता प्रदेश का मुख्यमंत्री होगा? सचिन पायलट 21 सितंबर आज से राहुल गांधी के साथ पदयात्रा कर रहे हैं! क्या अशोक गहलोत राहुल गांधी के चक्रव्यूह में फंसे हुए हैं और वह राहुल गांधी के चक्रव्यूह से निकलने का प्रयास कर रहे हैं? चक्रव्यूह से निकलने का अंतिम प्रयास गहलोत की श्रीमती सोनिया गांधी से मुलाकात होगा?

संभवत अशोक गहलोत 21 सितंबर बुधवार को सोनिया गांधी से मुलाकात करेंगे? सोनिया गांधी से मुलाकात के 1 दिन पहले अशोक गहलोत ने रात्रि को 10:00 बजे अचानक से कांग्रेस के विधायक दलों की बैठक बुलाई थी? बैठक में क्या बात हुई और क्या निर्णय हुआ क्या इसका मजमून गहलोत सोनिया गांधी को बताएंगे? राहुल गांधी ने कांग्रेस का राष्ट्रीय अध्यक्ष बनने से इनकार शायद इसलिए किया क्योंकि वह सत्ताधारी भाजपा के नेताओं के द्वारा लगाए जा रहे उन आरोपों के दाग को मिटाना चाहते हैं, जैसा आरोप लगाया जाता है कि कांग्रेस परिवारवाद की पार्टी है?

एक तरफ राहुल गांधी परिवारवाद के दाग को मिटाना चाहते हैं तो दूसरी तरफ राजस्थान में प्रदेश कांग्रेस कमेटी के सदस्यों की जो सूची सामने आई है उसमें पूरी तरह से परिवारवाद हावी है और यही परिवार वादी नेता बैठक कर प्रस्ताव लाकर राहुल गांधी से अनुरोध कर रहे हैं कि आप कांग्रेस का राष्ट्रीय अध्यक्ष पद स्वीकार करें? जिस परिवारवाद को राहुल गांधी राष्ट्रीय अध्यक्ष पद को अस्वीकार कर खत्म करना चाहते हैं, उस परिवारवाद की बड़े स्तर पर झलक राजस्थान में दिखाई दी! जब नेताओं ने पीसीसी सदस्यों की बंदरबांट की और एक ही परिवार के दो दो सदस्य पीसीसी के सदस्य बन कर बैठ गए?

सबकी नजर अब गहलोत और सोनिया गांधी की मुलाकात पर है? नजर तो राहुल गांधी और सचिन पायलट की उस तस्वीर पर भी है जो भारत जोड़ो यात्रा में दिखाई दे रही है?वरिष्ठ पत्रकार देवेंद्र यादव कोटा, राजस्थान

Tags

redbharat

हर खबर पे नजर, दे सबकी खबर
Back to top button
error: Content is protected !!
Close
Close