इंदौरमध्य प्रदेश

जो अडानी से करे प्यार वो कैसे करे मोदी से तकरार?

गिरीश मालवीय

राजनितिक पंडित हैरान है कि यह चमत्कार कैसे हुआ?

इंदौर/मध्य प्रदेश। अचानक से ममता जी माफ कीजिएगा ममता बानो जी और मोदी जी के संबंध मधुर होते दिख रहे हैं। ममता बानो जी ने मोदी जी की तारीफ करते हुए कहा कि उन्हें नही लगता कि मोदी केंद्रीय एजेंसियों के दुरुपयोग कर रहे हैं, हां लेकिन भाजपा के नेताओं का एक तबका अपने हित साधने के लिए एजेंसियों का दुरुपयोग जरूर कर रहा है।

राजनितिक पंडित हैरान है कि यह चमत्कार कैसे हुआ? जबकि एक साल पहले तक दोनो नेता एक दूसरे को फूटी आँख नही सुहाते थे।

दरअसल जो अडानी से करे प्यार वो कैसे करे मोदी से तकरार?

जी हां, अडानी जी ही वो कड़ी है जो ममता मोदी को जोड़ रही है, इसकी शुरूआत लगभग साल भर पहले हुई। आप को याद होगा कि तृणमूल सांसद महुआ मोइत्रा पहले संसद में अडानी पर जबरदस्त रूप हमलावर रहती थीं, लेकिन बस एक बार अडानी और ममता बनर्जी की मुलाकात हुई तो उसके बाद महुआ जी की सारी हेकड़ी ममता जी ने स्वयं उतार दी। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने अपने ही पार्टी की चर्चित सांसद महुआ मोइत्रा को सार्वजनिक रूप से पार्टी की ओर से तय सीमा में रहने की चेतावनी दी।

कहना न होगा कि उसके बाद सब कंट्रोल में है। कुछ महीने पहले उपराष्ट्रपति चुनाव बीजेपी मुश्किल में पड़ सकती थीं, लेकिन तृणमूल कांग्रेस ने तटस्थ रहने का निर्णय लेकर बीजेपी कैंडिडेट की जीत सुनिश्चित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

पिछले दिनो बंगलादेश की प्रधान मंत्री शेख हसीना भारत दौरे पर आई थीं, वे दरअसल अडानी से हुई डील को फाइनल करने के लिए ही यहाँ आई थीं। अडाणी ग्रुप की कंपनी अडाणी पावर ने झारखंड के गोड्डा में 1600 मेगावाट का थर्मल पावर प्लांट लगाया है। ट्रांसमिशन लाइन के जरिए बांग्लादेश पावर डेवलपमेंट बोर्ड (BPDB) को बिजली की सप्लाई की जाने वाली है, अब यदि बांग्लादेश तक ट्रांसमिशन लाइन बिछाई जाएंगी तो बिना पश्चिम बंगाल के सहयोग के केसे सम्भव होगा।अदानी का मोदी ने बांग्लादेश से जो समझौता करवाया है उसके अनुसार बांग्लादेश को गोड्डा बिजली संयंत्र को वार्षिक क्षमता शुल्क 2,865.55 करोड़ टका (2,392.16 करोड़ रुपये) देना ही होगा, जो 2023 से शूरू हो जाएगा जबकि आजीवन क्षमता शुल्क 84,903.72 करोड़ टका (71 हजार करोड़ रुपये) हैं।

अब इतनी बड़ी डील है और ममता बानो को अगला चुनाव भी लड़ना है, तो बडी रकम की जरुरत उन्हे भी है।

आशा है उपरोक्त तथ्यो से आप मोदी और ममता जी के बीच के इन सुमधुर पलो का रहस्य समझ चुके हैं?

(Credit Fb Girish Malviya)

Tags

redbharat

हर खबर पे नजर, दे सबकी खबर
Back to top button
error: Content is protected !!
Close
Close